Header Ads Widget

Ticker

6/recent/ticker-posts

ऑनलाइन कक्षाएं और प्राथमिक स्तर के छात्र

 ऑनलाइन कक्षा के दौरान छात्रों को विषय स्पष्ट नहीं होते हैं। वे शायद ही अवधारणा को समझते हैं। वे स्क्रीन पर शारीरिक रूप से उपस्थित हो सकते हैं लेकिन जब वे उन्हें समझ नहीं पाते


 

संपूर्ण विश्व में फैले इस महामारी ( COVID 19) के दौरान  सभी देशों ने एक आपातकालीन लॉकडाउन का विरोध किया था । लेकिन महामारी के चलते शिक्षा प्रणाली को पारंपरिक तरीके से ऑनलाइन तरीकों में बदलने की जरूरत थी। शिक्षार्थी के लिए ऑनलाइन माध्यम से सीखना बिल्कुल नया था। प्राथमिक स्तर के बच्चों (4 से 9) को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म तक पहुंचने में कई सारी समस्याओं का सामना भी करना पड़ा।

 

COVID19 एक फैलने वाल बीमारी है। बीमारी से बचने के लिए और लोगों की सुरक्षा के लिए लॉकडाउन की अचानक जरूरत थी। औद्योगिक, कृषि, यांत्रिक और शैक्षिक क्षेत्रों जैसे सभी क्षेत्रों को  बंद कर दिया गया। काम करने का तरीका भी बदल गया। कंपनियों ने अपने कर्मचारियों के लिए वर्क फ्रॉम होम शुरू किया। इसलिए शिक्षा प्रणाली ने भी अपने तरीके को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर स्थानांतरित कर दिया। प्राथमिक, उच्च प्राथमिक, माध्यमिक, वरिष्ठ माध्यमिक और उच्च शिक्षा के शिक्षार्थी ऑनलाइन माध्यम से अपनी पढ़ाई शुरू करने लगे।

 

प्राथमिक स्तर के छात्र 4 से 9 वर्ष आयु वर्ग के हैं। इस उम्र में बच्चे छोटे होते हैं। अन्य स्तर के शिक्षार्थियों की तुलना में उनकी एकाग्रता शक्ति वास्तव में कम होती है। लेकिन उनका दिमाग विकसित हो रहा होता है और वे चीजों को आसानी से सीख और पकड़ सकते हैं। लेकिन ऑनलाइन क्लासेज उनके लिए थकाने वाली बन गई। महामारी के कारण उन्हें बाहर जाने और खेलने की अनुमति नहीं है। ऑनलाइन कक्षाएं वास्तव में लंबी होती हैं। बच्चों को स्क्रीन पर 4 से 5 घंटे बिताने पड़ते हैं। बच्चों को चक्कर आने लगते हैं और उनका पढ़ाई में मन नहीं लगता।

4 से 9 साल के बच्चे पारंपरिक शिक्षण विधियों के दौरान कुछ मनोरंजक गतिविधियों के माध्यम से अपनी पढ़ाई का आनंद लेते हैं। वे समूह में बहुत कुछ सीखते हैं। घर में एसा माहौल पाना मुश्किल है। जब बच्चे को ऑनलाइन पढ़ाई करनी पड़ती है तो उसे अच्छा नहीं लगता। उन्हें टेक्नोलॉजी की पहुंच के बारे में जानकारी नहीं है। 



ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान कुछ समस्याएं बच्चों का सामना करती हैं

 

घर का वातावरण-  ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान घर का वातावरण महत्वपूर्ण होता है। प्राथमिक बच्चों के पास सीखने के लिए शांतिपूर्ण और आनंदमय वातावरण होना चाहिए। घर में यह संभव नहीं है। बच्चे सीखने की परिस्थितियों का पता नहीं लगा पाते हैं। जिससे बच्चे के मन में अनावश्यक अराजकता पैदा हो जाती है।

टेक्नोलॉजी के उपयोग की चिंता- बिना किसी तैयारी के टेक्नोलॉजी का परिचय छात्रों में चिंता पैदा करता है। उन्हें टेक्नोलॉजी की आदत नहीं थी। उन्हें टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल सीखना होगा। फोन का उपयोग करना, मीटिंग में लॉग इन करना, उस विशेष एप्लिकेशन के टूल का उपयोग करना, अपने कार्यों को जमा करना छात्रों में चिंता पैदा करता है। फिर भी शिक्षक इसे सरल बनाने की कोशिश करते हैं लेकिन छात्रों के लिए टेक्नोलॉजी का परिचय गलत समय पर था।

कम एकाग्रता- इन आयु समूहों में कम एकाग्रता शक्ति होती है। प्राइमरी लेवल के छात्र ज्यादा देर तक किसी चीज पर फोकस नहीं कर पाते हैं। वे मौज-मस्ती की तलाश में लग जाते हैं और अपनी कक्षाओं की उपेक्षा कर देते हैं। बच्चों को पढ़ाई में कोई दिलचस्पी नहीं है और वे अपने उपकरणों पर कार्टून या कुछ और देखते हैं। उन्होंने कक्षा में अपनी रुचि खो दी।

सीखने के सीमित स्रोत - शिक्षक छात्रों को स्कूल में मन लगाने के लिए कई गतिविधियों की योजना बनाता है। लेकिन ऑनलाइन में उनके पास सीमित स्रोत हैं जैसे पीपीटी और वीडियो दिखाना। बच्चा चीजों को सीखकर और करके खोजता है। लेकिन ऑनलाइन तरीकों में बच्चा इंटरनेट या वेबवर्ल्ड पर निर्भर होता है।

लंबे समय तक स्क्रीन समय- प्राथमिक स्तर के छात्रों के लिए कक्षाओं का समय ज्यादातर 9 से 12:30 बजे तक होता है। इसका मतलब प्रति दिन 3 घंटे 30 मिनट है। बच्चे को कम से कम समय स्क्रीन पर बिताना होता है। उन्हें स्क्रीन से चिपके रहना होगा। इतना लंबा समय उनकी आंखों को प्रभावित कर सकता है। बच्चे आमतौर पर कक्षाओं के दौरान अपनी आंखों और सिरदर्द पर दबाव महसूस करते हैं। लंबे स्क्रीन समय के कारण उनकी शारीरिक वृद्धि भी प्रभावित हुई।

कम समझ- ऑनलाइन कक्षा के दौरान छात्रों को विषय स्पष्ट नहीं होते हैं। वे शायद ही अवधारणा को समझते हैं। वे स्क्रीन पर शारीरिक रूप से उपस्थित हो सकते हैं लेकिन जब वे उन्हें समझ नहीं पाते हैं तो वे बात को अनदेखा करना शुरू कर देते हैं। पारंपरिक तरीकों पर अवधारणा को आसान और आनंदमय बनाने के लिए शिक्षक छात्रों के लिए अपनी शिक्षण पद्धति को संशोधित कर सकते हैं। लेकिन सीमित ई-संसाधनों के कारण इन विशेष आयु समूहों के लिए ऑनलाइन विधियों पर यह संभव नहीं है।

ऑनलाइन क्लासेज के दौरान थकावट- लंबे सेशन के बाद बच्चे थकान, आलस और चक्कर महसूस करने लगते हैं। अधिकांश बच्चे पढ़ना नहीं चाहते। ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान और बाद में उन्हें थकान महसूस हुई।

 

बच्चे न केवल मानसिक रूप से थके हुए महसूस कर रहे थे, उनकी शारीरिक गतिविधियां भी प्रभावित हुईं। वे इतने थक जाते हैं कि वे कुछ और नहीं करना चाहते हैं या किसी खेल या गतिविधियों में भाग नहीं लेना चाहते हैं। केवल इस विशेष आयु वर्ग में ही नहीं, सभी आयु वर्ग के शिक्षार्थियों को एक ही तरह की समस्या और मानसिक बीमारी का सामना करना पड़ता है। सरकार की ओर से ऑनलाइन कक्षाओं के लिए कोई उचित दिशा-निर्देश नहीं हैं।

 

कक्षाएं ज्ञान प्रदान करने के बजाय मानसिक थकावट का स्रोत बन गईं।

 

निष्कर्ष

 

मौजूदा समय में ऑनलाइन क्लासेज की जरूरत है। लेकिन सभी आयु समूहों के लिए उनकी जरूरतों और रुचियों के अनुसार उचित दिशानिर्देश होने चाहिए। हमें प्राथमिक स्तर के लिए कक्षाओं को और अधिक रोचक बनाना है ताकि बच्चे किसी भी प्रकार की चिंता और तनाव से ग्रस्त न हों। कक्षाएं ज्ञान प्रदाता होनी चाहिए न कि मानसिक थकान।